नयी दिल्ली : मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्य को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग सोमवार को फिर दोहराते हुए उद्योगपतियों से राज्य में अधिक से अधिक निवेश करने का अनुरोध किया। नीतीश ने वाणिज्य एवं उद्योगमंडल एसोचेम की ओर से ‘बिहार कल आज और कल ’ विषय पर आयोजित सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि राज्य में 14 प्रतिशत की विकास दर को बनाये रखने के लिए उसे केन्द्र से अधिक मदद चाहिए। उन्होंने कहा कि विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग अब जन- जन की मांग है और कुछ हद तक केन्द्र सरकार ने इसे स्वीकार भी किया है। उन्होंन्ंो कहा कि देश के विकास दर में उतार – चढ़ाव इसलिए आ रहा है क्योंकि यह कुछ राज्यों के विकास दर पर निर्भर है, हर राज्य इसमें भागीदार हो तो यह उतार- चढ़ाव नहीं आयेगा। उन्होंने कहा कि राष्टÑीय विकास दर में बिहार का योगदान 2.9 प्रतिशत है जबकि आबादी के अनुपात में विकास हो तो देश चीन की विकास दर से आगे निकल जायेगा नीतीश ने उद्योगपतियों से बिहार में एक हजार करोड़ रुपये निवेश करने का आग्रह किया। वहां निवेश करने वाले अपने को सुरक्षित महसूस करेंगे तथा सरकार उद्योगपतियों पर निवेश करेगी। उन्होंने दावा किया कि राज्य में विद्युत उत्पादन और वितरण की स्थिति में काफी सुधार हुआ है और अब गांव में भी 22 – 23 घंटे बिजली मिलने लगी है । बरौनी में 500 मेगावाट के बिजली घर की स्थापना की जा रही है तथा कांटी थर्मल पावर स्टेशन की क्षमता में भी विस्तार किया जा रहा है, इसके अलावा नवीनगर मे 1090 मेगावाट के बिजली घर की स्थापना संयुक्त क्षेत्र मे की जा रही है।

Leave a Reply