27_11_2013-27bangladeshढाका। बांग्लादेश में आम चुनाव की घोषणा के बाद विपक्षी बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) द्वारा बुलाए गए 48 घंटे के बंद के दौरान हिंसा की घटनाओं में मरने वालों की संख्या 16 हो गई है। बुधवार को बंद के दूसरे दिन हुई हिसंक झड़पों में छह लोग मारे गए। वहीं चुनाव स्थगित करने की मांग को लेकर विपक्षी दलों ने राष्ट्रीय विरोध की अवधि 12 घंटे बढ़ाने की घोषणा की है।

रिपोर्टो के मुताबिक सिराजगंज में पुलिस के साथ झड़पों में दो विपक्षी कार्यकर्ता मारे गए। जबकि बंदरगाह शहर चटगांव में हुई झड़पों में पुलिस और अर्धसैनिक बल के तीन जवानों सहित कई लोग घायल हो गए। चटगांव में एक ऑटोरिक्शा ड्राइवर की मौत की भी खबर है। ढाका के बाहरी क्षेत्र में स्थित कालीगंज में हुई झड़पों में अवामी लीग के एक नेता और यूनियन काउंसिल के एक सदस्य की मौत हो गई। पुलिस ने बताया कि बुधवार तड़के सतखीरा में अर्धसैनिक बल बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश (बीजीबी) के साथ झड़प में बीएनपी के महत्वपूर्ण सहयोगी जमात-ए-इस्लामी के एक कार्यकर्ता की मौत हो गई।

सतखीरा में ही जमात के कार्यकर्ताओं ने मंगलवार को सत्तारूढ़ अवामी लीग के दो कार्यकर्ताओं की हत्या कर दी थी। दरअसल, चुनाव कराने की व्यवस्था को लेकर अवामी लीग और बीएनपी के बीच मतभेद बना हुआ है। प्रधानमंत्री शेख हसीना ने एक बहुदलीय अंतरिम सरकार का गठन किया है। जबकि बीएनपी गैर दलीय अंतरिम सरकार की देखरेख में चुनाव कराना चाहती है। बीएनपी मांग कर रही है कि जब तक राजनीतिक दलों के बीच आम राय नहीं बन जाती पांच जनवरी को होने वाला चुनाव स्थगित कर देना चाहिए।

गौरतलब है कि चुनाव आयोग द्वारा सोमवार को पांच जनवरी को चुनाव कराए जाने की घोषणा के बाद बीएनपी और उसके सहयोगियों ने दो दिन बंद का आह्वान किया था। राजधानी ढाका से चटगांव और सिलहट के बीच रेल लिंक अवरुद्ध करने के बाद अधिकारियों को राजधानी समेत कई शहरों की सुरक्षा के लिए बीजीबी को भेजना पड़ा।

Leave a Reply