मुंहासे से क्या होता है?

मुंहासे – त्वचा की एक स्थिति है जो सफेद, काले और जलने वाले लाल दाग के रूप मे दिखते हैं। जब त्वचा पर के ये छोटे – छोटे छिद्र बन्द हो जाते हैं तब मुंहासे होते हैं। सामान्यतः हमारी तैलीय ग्रन्थियां त्वचा में चिकनापन बनाए रखती है और त्वचा के पुराने अणुओं को निकालने में मदद देती है। किशोरावस्था में वे ग्रन्थियां बहुत अधिक तेल पैदा करती हैं जिससे कि छिद्र बन्द हो जाते हैं, कीटाणु कचरा और गन्दगी जमा हो जाती है जिससे काले मस्से और मुंहासे पैदा होते हैं।

Must Read:- एक अनोखी प्रेम कहानी दूल्हा बनी “अंजलि” दुल्हन बनी “दीपशिखा” , कहा – जुदाई मंजूर नहीं

मुहांसों के प्रभाव को कैसे कम किया जा सकता है?

मुंहासों के प्रभाव को कम करने के लिए निम्नलिखित स्व- उपचार की प्रक्रिया को अपनाये-
(1) हल्के, शुष्कताविहीन साबुन से त्वचा को कोमलता से धोयें
(2) सारी गन्दगी अथवा मेकअप को धो दें, ताजे पानी से दिन में एक दो बार धोयें, जिसमें व्यायाम के बाद का धोना भी शामिल है। जो भी हो, त्वाचा को बार-बार धोने या ज्यादा धोने से परहेज करें।
(3) बालों को रोज शैम्पू करें, खासतौर पर अगर वे तेलीय हों। कंघी करें या चेहरे से बालों को हटाने के लिए उन्हें पीछे खीचें। बालों को कसने वाले साधनों से परहेज करें।
(4) मुंहासों को दबानेर, फोड़ने या रगड़ने से बचने का प्रयास करें।
(5) हाथ या अंगुलियों से चेहरो को छूने से परहेज करें।
(6) स्नेहयुक्त प्रसाधनों या क्रीमों का परहेज करें।
(7) अब भी अगर मुंहासे तंग करें, डाक्टर आपको और अधिक प्रभावशाली दवा दे सकता है या अन्य विकल्पों पर विचार विमर्श कर सकता है।

loading...

LEAVE A REPLY