पटना : याद कीजिए,पिछले दिनों में पटना के नागेश्‍वर कालोनी की वारदात को . राजधानी में सनसनी फैल गई थी . खबर थी कि रिटायर्ड बैंककर्मी बबन चौबे के फ्लैट में घुस जान-पहचान के व्‍यक्ति ने लुटेरों के साथ मिलकर लूट की वारदात को अंजाम दिया . इस वारदात में कोई पांच करोड़ रुपये की माणिक की अंगूठी लूट लिए जाने की बात भी सामने आई . अंगूठी रिटायर्ड कुलकांत सिंह की थी,जो पटना से बाहर जाते वक्‍त सुरक्षित रखने को पड़ोसी बबन चौबे को दे गए थे .

वारदात वीडियो कैमरे में कैद हो गया था . अपराधी स्‍पष्‍ट थे . लेकिन,घटना के पहले दिन पटना के एसएसपी मनु महाराज ने कुछ और तरीके के गड़बड़झाले को सूंघ लिया था . सो,स्‍पेशल टीम को लगाया गया . छापेमारी हुई तो पहचान में आये मुश्‍ताक और बशीर भगे निकले .

आगे के अनुसंधान में कई तरीके के किस्‍से सामने आने लगे . पता चला कि बबन चौबे जमीन का भी काम करते हैं . बशीर को बोरिंग रोड में कोई जमीन दिखाई गई थी . एग्रीमेंट के लिए 15 लाख रुपये लिए गए थे . पर जमीन गड़बड़ निकली . इसलिए सौदा कैंसिल हो गया . बशीर अपना रुपया मांग रहा था,जिसे बबन चौबे लौटा नहीं रहे थे . आगे नई प्‍लानिंग हुई . मुश्‍ताक भी साथ हो गया .

सबों को खबर थी कि बबन चौबे के घर में पांच करोड़ वाली अंगूठी है . सच यह है कि कुलवंत सिंह ने इसे बिकवाने का ठेका बबन चौबे को दिया था . जब वारदात हुई तो सभी उस अंगूठी को तलाश साथ लेकर भाग निकले . बेचने मुंबई पहुंच गये . मनु महाराज की टीम इलेक्‍ट्रानिक सर्विलांस के माध्‍यम से सब कुछ जान रही थी . मुंबई में भी पकड़ने की कोशिश हुई,लेकिन बच निकले .

बताया जा रहा है कि अंगूठी का सौदा नौ करोड़ रुपयों में मुंबई में हो भी गया . लेकिन परेशानी यह थी कि सर्टिफिकेट साथ में नहीं था . सो, सर्टिफिकेट के साथ आने को कहा गया . अब नई प्‍लानिंग हुई . बशीर अंगूठी लेकर किसी तरीके से सर्टिफिकेट हासिल करने को मुंबई से पटना के लिए ट्रेन में चला . मनु महाराज की टीम सब कुछ जान रही थी . इसलिए आज सुबह ट्रेन जैसे ही दानापुर स्‍टेशन पहुंची,बशीर को छू-मंतर होने से पहले गिरफ्तार कर लिया गया .

loading...

LEAVE A REPLY