भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य कोच रहे अनिल कुंबले का जो इस्तीफ़ा 20 जून को आया, उसकी रूपरेखा 25 मार्च, 2017 को बननी शुरू हो गई थी.
धर्मशाला में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच सिरीज़ के चौथे टेस्ट के लिए विराट कोहली कंधे की चोट की वजह से उपलब्ध नहीं थे.अजिंक्य रहाणे टीम के कप्तान थे, लेकिन बड़ा सवाल ये उभर रहा था कि कोहली की जगह प्लेइंग इलेवन में किसे शामिल किया जाए. कोहली की राय ये थी कि टीम में उनकी जगह कोई बल्लेबाज़ खेले.लेकिन मुख्य कोच अनिल कुंबले अतिरिक्त गेंदबाज़ कुलदीप यादव को मौका देने के पक्ष में थे.

कुंबले ने रहाणे को कुलदीप को मौका देने के लिए तैयार किया. कुलदीप ने पहली पारी में चार विकेट लेकर अपने चयन को सार्थक बताया लेकिन दूसरी पारी में उन्हें कोई कामयाबी नहीं मिली. लेकिन टीम इंडिया ये मुक़ाबला आठ विकेट से जीत गई.मैच के बाद कोहली ने मीडिया से कहा, “जिंक्स (रहाणे का निक नेम) और अनिल भाई पांचवें गेंदबाज़ को मौका देना चाहते थे और ये एक शानदार फैसला रहा. कुलदीप ‘एक्स फैक्टर’ साबित हुए.” टीम इंडिया के ड्रेसिंग रूम में अनिल कुंबले ने ये कह दिया कि अनुभव भी कोई चीज़ होती है. यही बात कोहली को खटक गई.

loading...

LEAVE A REPLY