बिहार में महागठबंधन में मचा है घमासान।शिक्षा को लेकर शुरू हुए बवाल पर अब ये गठबन्धन दो फाड़ है।rjd ने खोला मोर्चा ,सरकार को कटघरे में खड़ा किया और इधर कांग्रेस जदयू की चढ़ी त्यौरियां।एक दूसरे पर ऐसा गुस्सा की भाषाई मर्यादा भी टूटी।
इंटर परीक्षा के परिणाम आने के बाद से बिहार में छात्र और पुलिस  तो आमने सामने हैं मगर ये क्या अब तो इस विषय पर राजनीति ऐसी शुरू हुई की महागठबंधन  के नेताओं के बीच हीं छिड़ा घमासान।सरकार के मुखिया नीतीश कुमार और शिक्षा विभाग कांग्रेस के पास।ऐसे में rjd इस पूरे बवाल से किनारा करने में जुट गयी है।पार्टी के राष्ट्रिय उपाध्यक्ष ने खोला मोर्चा और सरकार और मंत्री को कटघरे में खड़ा कर दिया,पूरे शिक्षा व्यवस्था को हीं चुनौती दी,और वो सब कहा जो गठबन्धन के सहयोगी को नही कहना चाहिए था। रघुवंश ने कहा कि जब पढ़ाई ही नही हुई ठीक से तो फिर कड़ाई क्यों कि गयी। बच्चों के भविष्य के साथ जो हुआ उसका जिम्मेदार कौन होगा।
अब रघुबंश के ये बोल महागठबंधन में बवाल खड़ा करने को काफी थे।सो शुरू हुआ हंगामा,कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौधरी ही बिहार के शिक्षा मंत्री और जब टीम उनके पास पहुंची तो rjd नेता पर फूटा मंत्री जी का गुस्सा। अशोक चौधरी ने कहा कि जो लोग खुद derailed है हमेशा उल्ल जलूल ब्यान देते रहते है सरकार ऐसे लोगो को तवज़ज़ों नही देती है। सरकार अपना काम बखूबी कर रही है।
इधर जदयू भी इस पूरे वाकये से परेशान है,सहयोगी ने सरकार पर उठाये सवाल यानी निशाने पर सरकार के मुखिया नीतीश कुमार भी हैं।सो जदयू के प्रवक्ता भी आपा खो बैठे,और जम कर अपने सहयोगी दल और सरकार में बड़े भाई rjd पर बरसे। जदयू के कहना है कि सबको अपनी हद्द में रहना चाहिए और महागठबंधन की मर्यादा का खयाल रखना चाहिए।
और इन सबके बीच बीजेपी सबसे खुश,जब भी महागतबंन्धन में ऐसी परिस्थिति आती है इनके चेहरे पर हंसी खूब आती है।सो इन्हें भी मिला मौका और सरकार का खूब बनाया माखौल। बीजेपी का कहना है कि जो सही बात कहता है सरकार की कमियों को उजागर करता है और आप ही गठबंधन का नेता है आप उसी पे सवाल खड़े कर देते है। यानी सरकार सच की आवाज़ दबाना चाहती है।
तो आपने देखा की बिहार में कैसे कामयाबी और नाकामयाबी को लेकर एक अजीबोगरीब स्तिथि है।और ये बताने को काफी की इस गठबन्धन में सबकुछ ठीक नही है।
loading...

LEAVE A REPLY