file photo

पटना : भाजपा के वरीय नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने एक फिर बेनामी संपत्ति को लेकर हमला किया है,उन्होंने कहा कि उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के कब्जे में एक और कंपनी है। मोदी ने यह भी कहा कि लालू प्रसाद को भी नहीं पता है कि उनकी कहां-कहां संपत्ति है।उनके बच्चों की संपत्ति कहां-कहां है।

भाजपा के वरीय नेता सुशील मोदी ने कहा कि अभी तक 5 Shell कंपनियां (मुखौटा कंपनियों) का खुलासा हो चुका है, जिनके माध्यम से करोड़ों की बेनामी संपत्ति खरीदकर पूरी कंपनी पर तेजस्वी यादव, मीसा भारती के परिवार ने कब्जा जमा लिया है।उन्होंने कहा कि Delite Marketing, AB Exports RFKK AK Infosystem Pvt. Ltd की तेजस्वी यादव एवं राबड़ी देवी मालिक हो गये हैं।वहीं Mishail Packers तथा KHK Holding पर मीसा भारती का पूरा कब्जा है।

इन सभी कंपनियों में बेनामी संपत्ति हासिल करने का Modus Operandi एक है. कोई बंद पड़ी पुरानी कंपनी या स्थापित नयी कंपनी काले धन का इस्तेमाल कर लालू के रेल मंत्रितत्व काल (2004-09) के आस-पास जमीन या मकान खरीदा जाता है. पुराने Directors हटा दिए जाते है तथा तेजस्वी/ तेजप्रताप/ चन्दा/ रागिनी नए Directors नियुक्त किए जाते हैं. अधिकांश कंपनियों में सभी Share Holding लालू परिवार को Transfer कुछ लाख खर्च कर लालू परिवार पूरी सम्पत्ति सहित कंपनी के मालिक बन जाते हैं।

सुशील मोदी ने कहा कि इसी श्रृखंला में 6ठी मुखौटा कंपनी FAIRGROW HOLDINGS PVT. LTD. के माध्यम से भी बेनामी संपत्ति खरीदी गयी है। कोलकाता के पी सरावगी तथा AK महेश्वरी ने 1991 में FAIRGROW HOLDINGS PVT. LTD. नामक एक कंपनी 35 लाख के पूंजी निवेश से 130/1 बाकुल बगान रोड, थाना- भवानीपुर, कोलकाता के पते पर प्राइवेट लि. कंपनी स्थापित की। उन्होंने कहा कि लालू जी के रेल मंत्री (2004-2009) काल में उनके द्वारा नियुक्त कंपनी मामलों के मंत्री प्रेमचंद गुप्ता के लोगों ने इस कंपनी को Take Over कर लिया।

विजय पाल त्रिपाठी Fairgrow के Director बनाए गए, जो प्रेमचंद गुप्ता की कंपनी Delite Marketing के भी उसी दौरान Director थे।उसी प्रकार प्रेमचंद गुप्ता के एक अन्य सहयोगी अनिल तुलस्यान को भी 2006 में Director बनाया गया। उन्होंने कहा कि तेजस्वी यादव, तेजप्रताप यादव, चन्दा यादव, रागिनी को 19.06.2014 को इस कंपनी का नया Director बनाया गया है।
मोदी ने कहा कि लालू जब रेलमंत्री थे, उसी दौरान इस कंपनी ने 76 लाख 32 हजार का एक मकान खरीदा। 2011 तक कंपनी के Balance Sheet में जहां 76 लाख 32 हजार का भवन दिखलाया जा रहा था, उसे अचानक 2012 की Balance Sheet में 76 लाख 32 हजार की जमीन दिखयी जाने लगी। 2008 की 76 लाख की इस संपत्ति की कीमत 10 करोड़ से कम नहीं होगी।इस प्रकार तेजस्वी यादव एवं परिवार करोड़ों की जमीन सहित 2014 में कंपनी के मालिक बन बैठे।लेकिन 130/1 बाकुल बगान रोड, कोलकाता के पते पर इस नाम की कोई कंपनी नहीं पायी गयी।

loading...

LEAVE A REPLY