पटना : पटना सिटी के दीदारगंज थाना क्षेत्र स्थित कच्ची दरगाह इलाके के लोगों के लिए लाइफलाइन माने जाने वाले पीपापुल खुल जाने से दियारा वासियो में खासा नाराजगी है। अनोज कुमार सिंह ,पूजा सिंह, यदुवीर कुमार, नीतीश कुमार चौधरी, नीतेश कुमार, विभाष कुमार समेत अन्य दियारा वासियों ने कहना है कि
गंगा का जल स्तर में कोई खास वृद्धि नहीं हुई है और पीपापुल को खोल दिया गया है। जिसके कारण राघोपुर वासिओ को गंगा पार से राजधानी तक पहुँचने के लिए अब नाव का सहारा लेना पड़ रहा है। लालराघोपुर जाने का दो मुख्य घाट कच्ची दरगाह और जेठुली घाट ,जहाँ नाव पर ओवर लोडिंग धड़ल्ले से की जा रही है , लोगो को मजबूरन ओवर लोड नाव पर सवार होना पड़ रहा है। ऐसे में कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है। इस ओवरलोड नाव पर प्रशासन की ओर से रोक नहीं लगाया जा रहा है और ना ही प्रशासन की ओर कोई नाव व्यवस्था की गई है। नाविक पैसे की लालच में 60 सवारी की क्षमता वाले नाव पर 150 लोगों को सवार कराते है। यहां तक की नाविक एक नाव पर फोर वीलर गाड़िया ,कई बाइक और काफी संख्या में लोगो को भी सवार कर रहे है। गंगा पार जाने वाले लोग मजबूरन भेंड़ बकरियों की तरह नाव की सवारी कर रहे है। ऐसे में कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है। यहां तक की देर रात तक नाव परिचालन होता रहता है। ऐसा लगता है कि NIT घाट पर हुई घटना से प्रशासन कोई सबक नहीं ले रही है। लोगो का कहना है कि उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने पक्का पुल बनांने का वादा किया था लेकिन वह सिर्फ वादा ही रह गया। प्रशासन को अभी कुछ और दिन तक पीपापुल को रहने देना चाहिए था पर पीपापुल के ठेकेदार नाव से कमीशन लेने के चक्कर में जल स्तर में वृद्धि हुए बिना पीपापुल को खोल दिये है। दियारा वासियो की मांग है की सरकार को कोई वैकल्पिक व्यवस्था करे और वादा के अनुसार पक्का पुल बनवाये ताकि दियारा वासियो को खतरों का सामना करना न पड़े।

loading...

LEAVE A REPLY