राजगीर: अंतर्राष्ट्रीय कन्वेंशन सेंटर राजगीर मे आयोजित अंतर्राष्ट्रीय बौद्ध सम्मेलन के समापन समारोह में भारत के राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी , बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोबिद , मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पहुंचे. इस दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि राजगीर अनेक धर्मो का संगम स्थल है, यहां सहिष्णुता का महौल है यही वजह है कि कई देशों के बौद्ध धर्म के अनुयायी लोग राजगीर पहुंचते हैं.

इस समापन के मौके पर राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने कहा हमें विचार करने की जरुरत है की आज पूरा विश्व हिंसा के दौर से क्यों गुजर रहा है? विश्व युद्ध ने मानवता को गहरा घाव दिया है हिंसा से हमेशा धरोहरों की छवी नष्ट हुई है. आज समाज में मानवता के गुण नहीं देखे जाते हैं ऐसे में मानवता की नैतिकता की वापसी होना संभव कैसे होगी. आज पुरी दुनिया में कि दुनिया की हवा, पानी, पहाड़, यहां तकनिकी इंसानी से दूषित हो चुकी है जिसका समाधान बुद्धिज़्म और भगवान् बुद्ध के उपदेश से संभव है. राष्ट्रपति ने आधुनिक शिक्षा से परंपरागत शिक्षा को परिपूर्ण बताया.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा राजगीर में कन्फ्लिक्ट रिज्युलेशन सेंटर नालंदा विश्वविद्यालय में खोला जाएगा इसके लिए राज्य सरकार जमीन उपलब्ध कराने हेतु संकल्पित है, ताकि दुनिया भर के विवादों का हल इसमें हो. बिहार में कन्फ्लिक्ट का माहौल नहीं है सब लोग के सहिष्णुता के साथ रहते है दुनिया के विवादों को सुलझाने में बुद्ध विचार प्रासंगिक. अहिंसा के महत्व को 10 प्रतिसत लोग भी अंगीकार कर ले तो समाज बदल जायेगा और असहिष्णुता वालो की दाल नहीं गलेगी.

दुनिया में अशांति, असहिष्णुता, अहिंसा, एक दूसरे के प्रति नफरत के वातावरण से गुजर रहा है वैसे में बौद्ध धर्म राह दिखा सकता है. इस दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी से आगामी 17 अप्रैल को मोतिहारी में आयोजित होने वाले बापू सत्याग्रह कार्यक्रम में शामिल होने का न्योता दिया.उन्होंने 21 सदी के बौद्ध धर्म के बारे में चर्चा करते हुए कहा कि यहां पहली बार तीन दिवसीय बौद्ध सम्मेलन कार्यक्रम का आयोजन किया गया जो अपने आप काफी गौरव की बात है.

इससे पहले महामहिम की आगमन पर उनका स्वागत करने खुद सीएम नीतीश कुमार और मुख्य सचिव अंजनी कुमार पहुंचे थे इसके अलावे जिलाधिकारी डाॅ त्यागराजन एस एम, एसपी कुमार आशीष, डीआईजी शालिन भी मौजूद रहे.

इस मौके पर ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार, ग्रामीण कार्य मंत्री शैलेश कुमार, सासंद कौशलेन्द्र कुमार, विधायक रवि ज्योति, जितेंद्र कुमार, अतरीमुनी उर्फ शक्ति यादव, डीआईजी शालिन, प्रमंडलीय आयुक्त आनंद किशोर, डीएम डाॅ त्यागराजन एस एम, एसपी कुमार आशीष, डीएसपी नीशित प्रिया, सहित अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे. इस दौरान कई देशों के बौद्ध धर्म के अनुयायी भी शामिल थे.

loading...

LEAVE A REPLY