21 जून को होने वाले अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस की तैयारियों में योग गुरु बाबा रामदेव लगे है।चंपारण सत्याग्रह के शताब्दी वर्ष में बाबा रामदेव ने गांधी की कर्मभूमि पूर्वी चंपारण में लगाया है तीन दिवसीय योग शिविर।इस शिविर में लोगो के उत्साह का आलम है कि प्रातः कालीन योग अध्याय में डेढ़ से दो लाख लोग शामिल हो रहे है।हालांकि रामदेव इस दौरान न सिर्फ लोगो को योग के बारे में बता रहे है बल्कि पतंजलि के माध्यम से चंपारण को किसानों को बड़ा तोहफा भी दिया है।

 

मोतिहारी की सुबह गुरुवार से बदली बदली सी है ।सुबह के तीन बजे से ही हर कदम शहर के किनारे में स्थित गांधी मैदान की तरफ जाते है।इस दौरान तील रखने की भी जगह नही होती है।गांधी मैदान में योग गुरु बाबा रामदेव का शिविर लगा है जो तीन दिनों का है ।गुरुवार,शुक्रवार और शनिवार का।हर दिन डेढ़ से दो लाख की भीड़ बाबा के साथ योग करती है।लोगो मे गजब में उत्साह दिखता है।बाबा रामदेव लोगो को बताते है कि इस योग को पूरी दुनिया ने अपनाया है।21 जून को होने वाले अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की जानकारी लोगो को देते है।साथ ही योग के माध्यम से लोगो को अपने स्वदेशी आंदोलन के बारे भी बताते है।

योग शिविर सुबह 4 बजे से 7.30 तक चलता है इसके बाद बाबा पूर्वी चंपारण के किसानों से मिलते है।अलग अलग कार्यक्रमो में हिस्सा लेते है।इस दौरान बाबा किसानों को देशी गायो के उन्नत नस्ल से लेकर उनकी खेती के बारे में भी नई नई जानकारी देते हैं।उनके साथ होती है पतंजलि की पूरी टीम।बाबा ने चंपारण के किसानों के लिए बड़ा एलान किया है।बाबा ने वादा किया है कि चंपारण के गुड़ से लेकर मधु और लीची की पूरी खरीद पतंजलि अकेले कर सकती है।इसके लिए पतंजलि किसानों से सीधे डील करेगी ताकि किसानों का अच्छा मुनाफा सके।बाबा रामदेव ने कहा कि यदि सरकार सुविधा दे तो वो पतंजलि का फूड प्रोसेसिंग यूनिट चंपारण में भी लगा सकते है।

देश मे किसानों के आंदोलन पर बाबा ने कहा कि कुछ लोग किसानों के बारे में न तो जानते है और न समझते है लेकिन सिर्फ फ़ोटो सेशन के लिए किसानों के हक की बात करते है।मैं किसान का बेटा हु और किसानों की हक की बात करते है लेकिन उसके लिए इस तरह की हिंसक आंदोलन के खिलाफ है।

loading...

LEAVE A REPLY