डरबन : दक्षिण अफ्रीका के तूफानी गेंदबाज डेल स्टेन ने अपना विध्वंसक रूप दिखाते हुए 100 रन पर छह विकेट लेकर भारत को दूसरे और अंतिम क्रिकेट टेस्ट के दूसरे दिन शुक्रवार को पहली पारी में 334 रन पर समेट दिया। भारत ने सुबह का सत्र वर्षा से धुलने के बाद एक विकेट पर 181 रन से आगे खेलना शुरू किया था। भारत ने 153 रन जोड़कर अपने शेष नौ विकेट गंवा दिये। इन नौ विकेटों में से छह विकेट स्टेन के हिस्से में गये। स्टेन ने चेतेश्वर पुजारा (70) मुरली विजय (97) रोहित शर्मा (श्ूान्य) कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी (24), जहीर खान (शून्य) और इशांत शर्मा (चार) को पवेलियन का रास्ता दिखाया। स्टेन ने 30 ओवर में 100 रन देकर छह विकेट झटके । मोर्न मोर्कल ने 50 रन पर तीन विकेट और जेपी डुमिनी ने दस रन पर एक विकेट लिया। अजिंक्या रहाणे (नाबाद 51) अपने कॅरियर का पहला अर्धशतक बनाकर अवजित पवेलियन लौटे। भारत ने आखिरी चार विकेट 14 रन पर जोड़कर गंवाये । भारत ने पहले दिन मिली मजबूत शुरुआत का फायदा दूसरे दिन स्टेन के कहर के सामने गंवा दिया। स्टेन ने पहले विध्वंसक स्पैल में 10 गेंदों के अंतराल में पुजारा, विजय और रोहित के विकेट झटके थे। उन्होंने फिर दूसरे विध्वंसक स्पैल मे धोनी, जहीर और इशांत के विकेट लेकर भारतीय पारी निपटा दी। मोर्कल ने विराट कोहली (46) और मोहम्मद शमी (एक) को आउट किया। जेपी डुमिनी ने रवीन्द्र जडेजा (शून्य) को जैक्स कैलिस के हाथों लपकवाया जो उनका 200वां कैच था। विकेटकीपर एबी डिविलियर्स ने भी विकेट के पीछे पांच कैच लपके। भारत ने सुबह का सत्र वर्षा से धुलने के बाद जब लंच के बाद एक विकेट पर 181 रन से आगे खेलना शुरू किया तो सभी को भारत से बड़े स्कोर की उम्मीद थी। लेकिन, स्टेन ने एक के बाद एक तीन झटके देते हुये भारत का स्कोर चार विकेट 199 रन कर दिया। हालांकि जोहानसबर्ग के ‘मैन आॅफ द मैच’ विराट कोहली ने 46 रन बनाकर भारत को संभाला, लेकिन उनके चायकाल से पहले आउट होने से टीम इंडिया को पांचवा झटका लगा। भारत ने चायकाल तक अपने पांच विकेट 271 रन पर खो दिये थे। चेतेश्वर पुजारा 70, मुरली विजय 97, रोहित शर्मा शून्य और कोहली 46 रन बनाकर आउट हुए। स्टेन ने एक रन के अंतराल में पुजारा, विजय और रोहित के विकेट झटके जबकि मोर्कल ने कोहली को आउट किया।
भारत ने मैच के पहले दिन जिस सहजता के साथ बल्लेबाजी की थी उसे देखते हुए किसी को उम्मीद नहीं थी कि दूसरे दिन भारतीय पारी लड़खड़ा जाएगी। सुबह के सत्र का खेल वर्षा के कारण नहीं हो पाया। लंच के बाद विजय ने 91 रन और पुजारा ने 58 रन से अपनी पारी को आगे बढ़ाया। भारत का स्कोर 198 रन पहुंचा था कि स्टेन ने पुजारा को विकेट के पीछे लपकवा दिया। स्टेन की 140 किमी प्रति घंटे की रफ्तार की गेंद पर पुजारा ने ड्राइव खेलने की कोशिश की , लेकिन गेंद बल्ले का किनारा लेते हुए डिविलियर्स के हाथों में समा गई। अपने शतक से तीन रन दूर खड़े विजय स्टेन की शॉर्ट गेंद पर हड़बड़ा गए और गेंद उनके दस्तानों को चूमती हुई डिविलियर्स के पास पहुंच गई। पुजारा ने 132 गेंदों पर 70 रन में नौ चौके लगाए जबकि विजय ने 226 गेदो पर 97 रन में 18 चौके लगाए। स्टेन दो विकेट झटकने के बाद थमे नहीं और उन्होंने विजय को आउट करने के बाद अगली गेद पर रोहित को बोल्ड कर दिया। रोहित ने स्टेन की अंदर आती गेंद को छोड़ दिया और उनका मिडल स्टम्प उखड गया।
कोहली ने अजिंक्या रहाणे के साथ पांचवे विकेट के लिए 66 रन की शानपदार साझेदारी की। भारतीय पारी पटरी पर लौटती दिखाई दे रही थी कि मोर्कल ने कोहली का विकेट झटक लिया। कोहली ने लेग साइड मे फिलक करने की कोशिश की लेकिन विकेटकीपर डिविलियर्स ने बेहतर पूर्वानुमान लगाते हुए शानदार कैच लपक लिया। कोहली का विकेट 265 के स्कोर पर गिरा। उन्होने 87 गेदो पर 46 रन मे पांच चौके लगाए। चायकाल के समय रहाणे 23 और कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी शून्य पर नाबाद थे। रहाणे और धोनी ने चायकाल के बाद स्कोर 320 पहुंचा दिया था। दोनो के बीच 55 रन की साझेदारी हो चुकी थी। लेकिन स्टेन ने धोनी को ग्रीम स्मिथ के हाथो कैच कराकर जैसे ही इस साझेदारी को तोड़ा, भारतीय पारी को सिमटने मे ज्यादा समय नहीं लगा।

loading...

LEAVE A REPLY