पटना:
दिल्ली से चुनावी राजनीति में शानदार आगाज करने वाली नई नवेली आम आदमी पार्टी की नजर अब लोकसभा चुनाव पर है। पार्टी ने बिहार की सभी 40 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ने का प्लान बनाया है। इसके मद्देनजर पार्टी ने सदस्यता अभियान शुरू कर दी गई है और जनता के मुद्दों की पहचान की जा रही है। एक्सक्लूसिव जानकारी के अनुसार पार्टी ने चुनाव के मुद्दों को लेकर जनता से बातचीत करना तो शुरू कर ही दिया है। इसके अलावा यह भी साफ किया गया है कि पार्टी में किसी बाहुबली और अपराधी के लिए जगह नहीं है।बिहार में जदयू-भाजपा के गठबंधन टूटने के बाद बदली हुई राजनीति की पृष्ठभूमि का फायदा आम आदमी पार्टी उठाना चाहती है। अगले चुनावों में भाजपा, जदयूू और राजद के बीच त्रिकोणीय मुकाबला होने की पूरी संभावना है। आम आदमी पार्टी को इस बात का एहसास है कि बिहार में जाति की राजनीति की अपनी अहमियत है इसलिए उनका मानना है कि ये त्रिकोणीय मुकाबला ‘आप’ पार्टी के पक्ष में जाएगा। ‘आप’ फैक्टर को लेकर राजनीतिक पार्टियों की अलग-अलग राय है। जदयूू जहां ‘आप’ को हल्के में नहीं ले रही वहीं कांग्रेस का मानना है कि यह एक गुब्बारा है जो जल्द ही फट जाएगा। जदयू तो सूबे में ‘आप’ के साथ चुनाव लड़ने की संभावनाओं से भी इनकार नहीं कर रही। पर आम आदमी पार्टी फिलहाल ‘एकला चलो रे’ की नीति पर बनी रहना चाहती है।बिहार सरकार के भ्रष्टाचार, नीतीश कुमार की शराब नीति और कानून-व्यवस्था की लचर स्थिति चुनावी मुद्दे हैं।आम आदमी पार्टी की बिहार यूनिट के नेता डॉ. रत्नेश चौधरी कहते हैं, ‘हमारी पार्टी सभी 40 सीटों पर चुनाव लड़ना चाहती है। अभी हमारा फोकस सदस्यता अभियान पर है। किसी भी अपराधी छवि वालों को सदस्य नहीं बनाया जायेगा।

loading...

LEAVE A REPLY