लंदन: तमाम आर्थिक चुनौतियों का पूरी ताकत के साथ सामना करते हुए भारत वर्ष 2028 तक जापान को पछाड़ कर दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था हो जाएगा। लंदन स्थित इकोनोमिक्स एंड बिजनेस रिसर्च( सीईबीआर)की वैश्विक अर्थव्यस्था पर जारी ताजा रिपोर्ट में यह बात कही गयी है। रिपोर्ट के अनुसार भविष्य में कमजोर मौद्रिक नीति अपनाने के कारण जापान की अर्थव्यवस्था कमजोर पड़ेगी और भारत उम्मीद काफी पहले ही इसे पछाड़ते हुए आगे निकल जाएगा। रिपोर्ट में आलोच्य अवधि में अमेरिका के स्थान पर चीन के दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाने का भी दावा किया गया है। सीईबीआर के अनुसार भारत वर्ष 2030 तक फ्रांस और जर्मनी को पछाड़ कर यूरोप की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन चुके ब्रिटेन को भी पीछे छोड़ देगा। इस अवधि में जर्मनी यूरोप की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था होने का अपना खिताब ब्रिटेन के हाथों गंवाएगा। ब्रिटेन को यह बढ़त अपनी जनसंख्या वृद्धि और अन्य यूरोपीय अर्थव्यवस्थाओं पर उसकी निर्भरता घटने की वजह से मिलेगी। रिपोर्ट के अनुसार ब्रिटेन वर्ष 2018 में सबसे पहले फ्रांस की अर्थव्यवस्था को मात देते हुए आगे निकलेगा उसके बाद वर्ष 2030 में वह जर्मनी को पीछे छोडेÞगा। ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था के लिए यह बड़ी उपलब्धि होगी लेकिन तब तक तेजी से उभरती दो बड़ी अर्थव्यवस्थाएं ब्राजील और भारत उसे पछाड़ने की स्थिति मे आ जाएंगी। रिपोर्ट के मुताबिक हालांकि ब्राजील ने वर्ष 2011 में ही ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था को पछाड़ कर दुनिया की छठी बड़ी अर्थव्यवस्था बन चुका था लेकिन उसके बाद वहां उपजे राजनीतिक संकट ने हालात खराब कर दिए और घरेलू अर्थव्यवस्था पर सुस्ती छा गयी। सीईबीआर के अनुसार ब्राजील की हालत अब तेजी से सुधर रही है जिसे देखते हुए यह उम्मीद की जाती है कि वर्ष 2023 तक यह ब्रिटेन और जर्मनी को पीछे छोड़कर दुनिया की पांचवी बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा। सीईबीआर एक आर्थिक सलाहकार सेवा देने वाली कंपनी है जो दुनिया की तीस बड़ी अर्थव्यवस्थाओं की समय समय पर समीक्षा जारी करती है।

loading...

LEAVE A REPLY