संवाददाता
पटना : मंत्रिमंडल से स्वीकृति मिलने के बाद बिहार पुलिस खेल-कूद नीति-2013 की अधिसूचना जारी हो गयी है। अधिसूचना के अनुसार राष्टÑीय पुलिस खेल नियंत्रण बोर्ड एवं अंतरराष्टÑीय ओलंपिक समिति द्वारा अनुमोदित 17 खेलों को रखा गया है। इन्हीं खेलों के खिलाड़ियों को पुलिस में नियुक्त किया जायेगा। किक्रेट को इसमें जगह नहीं दी गई है। क्योंकि क्रिकेट राष्टÑीय पुलिस खेल नियंत्रण बोर्ड एवं अंतरराष्टÑीय ओलंपिक समिति द्वारा अनुमोदित नहीं है। इससे बिहार पुलिस खिलाड़ियों की नियुक्ति में क्रिकेटरों को नजरअंदाज कर देगा। अर्थात् बिहार पुलिस में क्रिकेटर नियुक्त नहीं किये जायेंगे। खिलाड़ियों के लिए एक प्रतिशत स्पोर्टÞ्स कोटा उपलब्ध रहेगा। इनकी नियुक्ति सिपाही एवं सब इंस्पेक्टर के पद पर होगी। स्पोर्ट्स कोटा से नियुक्ति खिलाड़ी 40 वर्ष तक खेल के क्षेत्र में कार्यरत रहेंगे। 40 वर्ष उम्र पूरा करने के बाद एनआइसी के डिप्लोमा कोर्स इन स्पोर्ट्स में उत्तीर्ण खिलाड़ी को प्रशिक्षक के रूप में चयनित किया जायेगा। प्रशिक्षक के रूप में कार्य नहीं करने वाले खिलाड़ियों को विद्यमान रिक्ति के विरूद्ध अपने समकक्ष संवर्ग में समायोजित किये जायेंगे। खिलाड़ियों को शेष पेज 11 पर
बिहार पुलिस में…
खिलाड़ियों की नियुक्ति के लिए कोई लिखित परीक्षा संचालित नहीं की जायेगी। खिलाडियों के प्रदर्शनों के आधार पर अंक दिया जायेगा। कुल 100 अंकों के आधार पर मेरिट लिस्ट बनाया जायेगा। इसमें 60 प्रतिशत अंक पाने वाले खिलाड़ी उत्तीर्ण होंगे। खेल-कूद की उपलब्धियों के लिए 70 और चयन परीक्षणों के दौरान 30 अंक निर्धारित किये गये है। खिलाड़ियों की नियुक्ति में सेवा संवर्ग नियमावली के आधार पर आरक्षण की व्यवस्था लागू रहेगी। सब इंस्पेक्टर के लिए स्रातक तथा सिपाही के लिए इंटर तक शैक्षणिक योग्यता होगी। एससी/एसटी और महिला खिलाड़ियों को शारीरिक योग्यता में छूट दी जायेगी। चयन के लिए पुलिस महानिदेशक की अध्यक्षता में विशेष खेल-कूद समिति तथा पुलिस महानिरीक्षक के अध्यक्षता में प्रतिभा खोज समिति बनायी जायेगी।

 

loading...

LEAVE A REPLY