फाइल फोटो

आहट डेस्क : मौजूदा सरकार ने अपने नोटबंदी के बाद आर्थिक विकास में गिरावट की बात को कबूला है. सरकार के अनुसार सबसे बड़ी समस्या है युवायों को रोजगार प्रदान करना है. लेकिन ऐसा आकलन किया जा रहा है की आने वाले वर्ष तक केंद्र सरकार को 35.67 लाख कार्यबलों की जरुरत पड़ेगी जबकि अब तक सरकार के पास 32.84 कर्मचारी हैं.

इससे से आकलन किया जा रहा है की साकार के द्वारा अगले साल तक 2.83 लाख नौकरियों का सृजन किया जा सकता है. मीडिया में आ रहे खबरों के अनुसार केंद्र सरकार गृह मंत्रालय, पुलिस विभाग, विदेश मंत्रालय, कौशल विकास और आंत्रप्रेन्‍योरशिप मंत्रालय, नागरिक उड्डयन मंत्रालय समेत कई अन्य विभाग में भी अपने कर्मचारियों की संख्या बढ़ा सकती है.

loading...

LEAVE A REPLY